Wednesday, December 3, 2014

का पापी बनि‍हैं खेवनहारा?

राम लला अब लड़ि‍न अखाड़ा
हासि‍म चचा का लाग बा जाड़ा
ज्ञानदास का आवा ज्ञान
पांड़े जी अब करैं बखान।

राम लला ओढ़ैं ति‍रपाल
चोर उड़ावैं सारा माल
बनरन आगे सब जग हारा
तभै राम अब लड़ि‍न अखाड़ा।

हिंदू कै तन बनि गा ढक्‍कन
चोरकट काटि‍न सारा मक्‍खन
कटि‍यारन का चप्‍पल मारा
आवा राम अब लड़ा अखाड़ा।

लंठन का जब देबा न्‍योता
होए पाए कौनो समझौता?
का पापी बनि‍हैं खेवनहारा?
तभै तौ लड़ि‍हैं राम अखाड़ा।

सुनि‍ए: राम लला अब लड़ि‍न अखाड़ा



- राइजिंग रेजिंग राहुल, अवध बीज भंडार हरिंग्‍टनगंज मि‍ल्‍कीपुर रोड वाले। 

Post a Comment