Saturday, January 16, 2016

दरवाज़े, आओ तुमको चश्‍मा पहना दें

गौरी, आओ तुमको रंगोली बना दें। फूल, आओ तुमपे गेंदा चढ़ा दें। चि‍रैया आओ तुमको उड़ा दें। लड़की, आओ तुमको वो सबकुछ बना दें जो तुम नहीं हो। दन्‍न से दुनि‍या को बता दें कि तुम अड़की हो। जो तुम हो, वो सात कोस दूर के कुंए में डालके देर तक नि‍हार के कन्‍फरम कर लें कि कायदे से कुंए में तुम्‍हरा होना धंसा या नहीं। कहीं से कोनो उंगली बाल नि‍कलके दि‍ख तो नहीं रहा।

बाबा, आओ तुमको बजा दें। डीजे, आओ तुमको बाबू बना दें। जोकर, आओ तुमको जोंक चि‍पका दें। दांत, आओ तुमको चि‍यार दें। बाल, आओ तुमको खैनी बना दें। भगत, आओ तुमको चढ़ा दें। पुलि‍स, आओ तुमको बहका दें। कोरट, आओ तुमको बि‍गेर कत्‍थे का पान खि‍ला दें। तुम सबको एक थूकदान दे दें, सब इकठ्ठा हो जाओ तो संसद में साजि‍श करके पहुंचा दें।

पड़ोसी, आओ पैजामा पहना दें। अड़ोसी, आओ तुमको नाड़ा थमा दें। दरवाज़े, आओ तुमको चश्‍मा पहना दें। खि‍ड़कि‍यों, आओ तुम्‍हरी आंख टेस्‍ट करा दें। दीवारों, आओ तुमको पहि‍या लगा दें। पत्‍थर, आओ तुमको पंख लगा दें। तुम सबको बांस की वो खांची दें, जि‍समें कैसे भी सब अपना सामान लेकर अमा जाओ, गि‍रा दें सूखे तालाब में, बन आंगन खटि‍या नीचे समा जाओ।

गाली दो गुणगान करूंगा
सुबे दोपहर शाम करूंगा
काम मेरा है गाली खाना
श्रद्धा से मैं काम करूंगा।

Post a Comment