Monday, November 27, 2017

भारतदेश की पुड़िया मंदिर कथा- हाथ जोड़ पालथी मार पढ़ना

तीन चार दशक पहले की कथा है। भारतवर्ष में डकैतों का एक नामी गिरोह हुआ करता था। इस गिरोह की खास बात यह थी कि यह पहले ठगी करता था, फिर ठगे हुए लोगों के घर में घुसकर दिन दहाड़े डकैती डाला करता था। गिरोह के पास ठग विद्या की जो पुड़िया थी, उसमें बस एक ही सुंघनी थी। डकैती लायक कोई भी शख्स जब इन्हें दिखता, फट ये गिरोह या गिरोह का मुखिया वह पुड़िया खोलकर उसे दिखाने लगता।

आरंभ में तो लोग इस पुड़िया को देखते, सूंघते और फिर पुड़िया से निकली ठगी में लसकर उसका गुणगान करते-करते अपना सबकुछ डकैतों के हवाले कर देते। जब डकैतों ने राह चलते लोगों पर पुड़िया का यह असर होते देखा तो उनकी हिम्मत बढ़ी। अब वह पुड़िया लेकर देश के घर घर पहुंचते, पुड़िया दिखाते और डकैती डालकर अगले घर का रुख करते। ऐसा करते करते इन डकैतों ने पुड़िया को भगवान बना दिया और लोगों को पुड़िया मंदिर बनाने का सपना दिखाने लगे। पुड़िया के नशे में झूमते लोगों को भी चहुंओर पुड़िया मंदिर दिखाई देने लगा। इधर डकैतों ने पुड़िया मंदिर का सपना दिखाकर अपना खजाना भर लिया और चुप हो गए।

कुछ दिन बाद डकैतों के मुखिया को उसके सहयोगी ने सूचना दी कि खजाना खाली होने वाला है और स्वर्ण मुद्राएं तो चूहे कुतर गए। यह सुनकर डकैतों का मुखिया हौले से मुस्कराया। उसने जेब से वही पुरानी मुड़ी-तुड़ी पुड़िया निकाली और सहयोगी से बोला- इसे राजप्रासाद के कंगूरे पर चढ़कर लोगों को दिखाओ। जैसे ही लोगों को पुड़िया दिखेगी, उनके मन में उसी पुराने नशे की आकांक्षा प्रबल हो उठेगी और हमारी पुड़िया फिर से काम कर जाएगी।

पुड़िया दिखाकर खजाना भरते-भरते इन डकैतों को तीन दशक बीत गए। तीन दशक तक लोग जब कुछ भी पूछते, कुछ भी कहते तो उन्हें वही पुरानी पुड़िया दिखा दी जाती। तीन दशक के बाद जब लोगों को पुड़िया सूंघने की लत कुछ यूं लगी कि सूंघना या न सूंघना बराबर लगने लगा। इधर डकैतों का खजाना फिर से खाली होने लगा था।

डकैतों के चिंतातुर मुखिया ने यह देख जेब से वही मुड़ी-तुड़ी पुड़िया निकाली तो देखा कि उसमें तो उन ईंटों का मलबा भरा है, जो उसने पुड़िया मंदिर के निर्माण के लिए दान में ठगी थीं। अब मलबे से मंदिर तो नहीं बनने वाला, मगर किसी को यह नहीं पता था कि पुड़िया के अंदर मलबा भरा है। उसने पुड़िया की पुड़िया देने के लिए उसका प्रदर्शन करने के लिए राजधानी से दूर पुड़िया धर्म सभा आयोजित कराई।

इस धर्मसभा में देश भर के डकैतों का आगमन हुआ। मुखिया डकैत द्वारा बहला फुसलाकर घर से भगाई गई स्त्रियों ने सभी डकैतों के चरण कमल धुले, दबाए और डार्शीवाद लिया। देश के सरकारी सेवाओं ने पुड़िया सभा का सीधा प्रसारण किया। बस यहीं पर डकैतों से चूक हो गई। हुआ यूं कि जब डकैत मुखिया ने जेब से मलबों भरी पुड़िया निकाली और दिखाने के लिए दोनों हाथों में रखकर उसे ऊपर किया, ईंट का एक टुकड़ा टप से नीचे गिर पड़ा। भांग के नशे में झूमते दूसरे डकैतों को तो यह नहीं दिखा, मगर सरकारी सेवाओं के कैमरों से भला यह कहां छुपने वाला था।

देखते ही देखते पूरे देश में फैल गया कि पुड़िया में मंदिर नहीं बल्कि उसका मलबा है। जिन लोगों ने पुड़िया के बारे में सुना भर था, वह मलबा मलबा चिल्लाने लगे और जिन्होंने पुड़िया गलती से भी सूंघ ली थी, वह मंदिर के बहाने बनाने लगे। इस बीच दूसरे राज्य से आए प्रतिगमन मिश्रा ने डकैत मुखिया को पीछे से एक टीप मारी और पूछा- दिखता नहीं क्या गिरा रहे हो? डकैत मुखिया बोला- हमारा काम गिरा देना है, यह देखना नहीं कि क्या गिरा, कौन गिरा और कितना गिरा। संयोग से यह वार्तालाप भी सरकारी चैनल पर प्रसारित हो गया।

अब तो जितने गिरे दबे कुचले लोग थे, उनमें जांबियों की आत्मा आ गई। वह धीमे-धीमे उठने लगे, उठकर खड़े होने लगे, खड़े होकर चलने लगे और चलकर पूछने लगे। सबको पुड़िया चाहिए थी, मगर पुड़िया में मलबा था, यह भी सबको पता था। देखते ही देखते पुड़िया देने वाला डकैत मुखिया जांबियों से घिर गया। उसका क्या हुआ? उसका क्या होगा जैसे सवालों के जवाब उन्हीं जांबियों के पास हैं, जो आज भी पुड़िया मांग रहे हैं।

Friday, November 24, 2017

बेटे के लिए कंडोम बनाने की रेसिपी

सामग्री- 
नाइन जीरो टू एंड अ क्वार्टर कंडोम- पांच पीस
वॉटर जेली-पचास ग्राम 
स्ट्रॉबेरी ऐसेंस- दो 
लाइम ऐसेंस- एक 
चॉकलेट ऐसेंस- पचास ग्राम 
नमक- नमक नहीं डालना है। यूजर अपना अपना नमक लेकर खुद चलते हैं।
टॉपिंग्स के लिए- पांच वियाग्रा
लपेटने के लिए टीश्यू पेपर
विधि- सबसे पहले बाथरूम में रखी बाल्टी उल्टी करके कमोड के सामने रख लें। अपनी चड्ढी पहन लें क्योंकि आपको अपने हाथ से 'वो' नहीं करना, बल्कि 'ये' करना है। अब कंडोम का पैकेट खोलें।
ध्यान रहे, कंडोम खोलने के बाद आपको उत्तेजित नहीं होना है और न ही वापस कमोड की दिशा में ध्यान लगाना है। कमोड से कंडोम तक की इस यात्रा में आपको अपनी निगाह हमेशा कंडोम के उस शिखर पर टिकाए रखनी है, जहां पहुंचने के लिए आप यह डिश बनाने जा रहे हैं।
Photo not for wearing or shaking.
अब बाल्टी की तली में पचास ग्राम वॉटर जेली डालें। अगर अलग अलग स्वाद के कंडोम बनाने हैं तो बाल्टियां भी अलग अलग लगेंगी। जेली में दो बूंद स्ट्रॉबेरी ऐसेंस डालें। अगर आपका बेटा कुछ-कुछ खट्टा और कुछ-कुछ मीठा पसंद करता है तो उसमें लाइम ऐसेंस भी डालें।
अगर बेटे को स्ट्रॉबेरी चॉकलेट फ्लेवर एक साथ देना चाहते हैं तो पहले कंडोम को स्ट्रॉबेरी एसेंस में रैप करना होगा, उसके बाद चॉकलेट में अलग से। इस तरह से पहले चॉकलेट का स्वाद आएगा, उसके बाद स्ट्रॉबेरी का। एंड देन योर सन विल बी फाइनली रेडी टू पॉप द चेरी। बट इफ योर सन इज नॉट सीरियस अबाउट पॉपिंग द चेरी, ही कैन डू समथिंग एल्स। टेल हिम दैट दुनिया का बड़ा हिस्सा बरमूडा ट्रायंगल्स में ही दफन होता रहा है।
अब आपके सामने उल्टी बाल्टी में भरी वॉटर जेली रखी हुई है। एक एक कांडोम निकालें और जेली में डुबो डुबोकर तीन तीन तह लगाकर टीश्यू पेपर पर रखते जाएं। जब पांचो कंडोम हो जाएं तो आप उनपर वियाग्रा की टॉपिंग लगा सकते हैं।
इसके बाद टीश्यू पेपर लपेटकर एक एक कंडोम सिल्वर फ्वाइल में लपेटकर रख दें। दिन भर के लिए पांच कंडोम काफी रहेंगे।
अगले दिन के लिए एक बार फिर से बाथरूम में खुद को बंद कर लें। इस रेसिपी की वीडियो न बनाएं। बस इतना करें कि जब तीन तह के कंडोम पर वियाग्रा की टॉपिंग लगा दें तो एक फोटो मुझे व्हाट्सएप्प कर दें। 

Monday, July 10, 2017

पढ़िए नूर ज़हीर की कहानी बालूचरी

अकरम अली को अपनी आँखों यक़ीन नहीं हो रहा था। उस जैसे ग़रीब तांती के दस्तरखान पर इतने पकवान! इतनी भेंट तो कभी किसी ने नहीं दी; शायद आजतक कोई गाहक, इतना अमीर नहीं आया जितना यह सामने बैठा खरीदार , जो एक हाथ से दाढ़ी सहला रहा था और दूसरे से तस्बीह फेर रहा था। इसे कैसे पता चला? किसने इसे खबर दी होगी ? सवाल दिल में आते ही अकरम अली ने ग़ुस्से से अपने बड़े बेटे शरीफुद्दीन की तरफ देखा जो बाप से आँखे चुराकर उस अरब शेख की चापलूसी में लगा हुआ था. वैसे सुलगते लोबान की खुशबू और नई बालूचरी साड़ी की खबर फैलते देर नहीं लगती. बशीरहाट में सभी जानते थे अकरम ने एक नई बालूचरी साड़ी तैयार की है, लेकिन इसकी खबर कलकत्ता और इस शेख तक पहुंचाने की क्या ज़रूरत थी?
अपनी ही लाइ हुई, आगे बढ़ी मिठाई की प्लेट को इशारे से इंकार करते हुए शेख ने मामूली मलमल में लिपटी हुई बालूचरी की तरफ हाथ बढ़ाया। अकरम अली ने ढंकी हुई साड़ी पर हाथ रखा। उसका सारा जिस्म जैसे झनझना उठा। कितनी आस से उसने इस साड़ी को करघे पर चढ़ाया था । सबसे नज़र बचाकर, अपनी बीवी के ज़ेवर बेचकर मुर्शिदाबाद गया था, रेशम के कोये खरीदने। उसने सोचा था खदीजा को तो मरे चार साल होने को आये, अब उसके ज़ेवर रखने से क्या फ़ायदा ? एक एक रेशम के कोये को उसने अपने सामने बंटवाया था और तार बनवाये थे. जब रेशम के धागे बन गए तब रंगाई में कितनी एहतियात बरती थी उसने। तभी तो ऊपर का मलमल हटाकर, पहली तह खुलते ही जैसे ही पल्लू सामने आया आसपास खड़े लोगो की सांस थम गई और शेख के मुंह से यक ब यक निकला "सुभांनल्लाह।"
अकरम अली के तीनो बेटों की बांछे खिल गई --शेख़ फंस गया!
कांपते हाथों से अकरम अली ने साड़ी की एक एक परत खोलनी शुरू की। हर तह के साथ यादों का एक काफिला जुड़ा हुआ था -- नीले रंग पर उसने कितनी बहस की थी ---आकाश नील, समुन्दर नील, शंख नील या फिरोज़ी नील ! तंग आकर ग़ुलाम नबी रंगरेज़ ने कहा था---अरे बाबा मोर के पंखों में इतने नील होते हैं क्या?
अकरम अली हंस पड़ा था "अरे इतने नील नहीं होते तो मोर नाचता क्यों है ? क्या मोर बादल देखकर नाचता है? बेवकूफ, वो अपने रंग दिखाने लिए इतराता है!"
"तो नाचता मोर बनाना ज़रूरी है क्या?" ग़ुलाम नबी ने आगे हुज्जत की।
"वाह ! जो नाचे न वह मोर काहे का, वह तो कौआ हुआ। "
बालूचरी बनाना कोई ख़ाला जी का घर नहीं है इसीलिए बस दस या बारह साड़ियां ही बनाता है अकरम अली साल भर में। ज़्यादातर साड़ियां दुर्गा पूजा के लिए खरीदी जाती हैं। आस पास की सार्वजनिक पूजा कमिटियों से लेकर कलकत्ता तक की पूजा कमिटियों में होड़ लगी रहती है ; अकरम अली की बनाई बालूचरी हाथ लग जाए और पूजा में स्थापित होने वाली दुर्गा ठाकुर के रूप को चार चाँद लग जायें। पूजा पंडाल में आने वाले लोग भी झट पहचान जाते और एक दुसरे से कहते ---'अकरम अली तांती की साड़ी है ना ?' अकरम का सीना गर्व से फूल जाता I लेकिन फिर भी कहीं ना कहीं दिल में एक काँटा सा चुभता रहता। उसने तो साड़ी माँ को बेचीं है। भेंट तो उस भक्त ने की जिसने उसके दाम चुकाए। फिर वह दिल को समझाता और वादा करता, एक साड़ी वह ऐसी बनाएगा जो अपने आप में एक मिसाल होगी; बेषकीमती! नायाब! कारीगरी और कला की ऐसी मिसाल जो खुद अकरम अली के हुनर को पार कर जाएगी, वह हाथ की नफासत उसमे दिखेगी जो कला का दर्जा पायेगी। वह साड़ी जो वह देवी को बेचेगा नहीं; देवी को भेंट करेगा !
ढब की आवाज़ से अकरम अली का ध्यान टूटा. सामने एक हज़ार के नोटों का बण्डल पड़ा था। जल्दी जल्दी तीन और बण्डल तख़्त पर गिरे. एक लाख से ज़्यादा साडी का दाम नहीं था। यह तो चार लाख थे। उसके दिल में एक टीस सी उठी। यही रुपये पांच साल पहले मिल गए होते तो खदीजा बच जाती। न उसकी जान बचा पाया न ही उसकी ख्वाहिश पूरी कर पाया। बेचारी दिल में बालूचरी पहनने की आस लिए इस दुनिया से चली गई। शेख ने एक और गद्दी उसकी तरफ बढ़ाई। उसके पास खड़ा उसका सेक्रेटरी बोला "यह तुम्हारी बख्शीश है, तुम्हारे हुनर और मेहनत की दाद दे रहे हैं शेख !"

"लेकिन मोहतरम, आपके देश में तो औरतें साड़ी पहनती नहीं। आप इसका क्या करेंगे ?"
शेख सवाल समझ कर मुस्कुराया "अगले महीने मेरी शादी है; हम लोगों में लड़की के लिए लड़के वालों की तरफ से अबाया भेजा जाता है। इस साड़ी को काटकर अबाया बनेगा; पल्लू से नक़ाब और ऊपर वाला हिस्सा। बहुत खूबसूरत लगेगा इसका अबाया; शायद हमारी बीवी इसे पहली रात को ही पेहेनना चाहे। "

"आप मेरी साड़ी पर कैची चलवाएंगे?"
"काटे बग़ैर तो बुर्का नहीं बन सकता।" शेख अपनी होने वाली बीवी के लिए बहुत से कीमती तोहफे खरीद रहा था। बंगाल की नायाब सोने की नक्काशी के ज़ेवर खरीदने कलकत्ता आया था। वहीं उसे इस साडी की खबर मिली थी और इसी की लालच में इतनी दूर बशीरहाट आया था। सौदा हो गया था अब बेकार बातों में वक़्त गवाना उसे खल रहा था.
अकरम अली खड़ा हो गया। सबको नज़र भरकर देखा और बोला "बुर्का तो तन ढंकने के लिए होता है। "
"सभी कपडा तन ढंकने के लिए होता है." शेख ने दुभाषिये के ज़रिये जवाब दिया।
"सभी का तो मैं नहीं जानता, साड़ी तन ढंकने के लिए नहीं होती."
"तो फिर किसलिए होती है ?" शेख ने तंज़ से सवाल किया।
"सदियों पहले इंसान जानवर की खाल और पेड़ की छाल से भी तन ढँक लेता था. इतना बेहतरीन सूत और रेशम, ऐसे ऐसे रंग, इतनी कारीगरी, ऐसे नमूने ईजाद करने की क्या ज़रूरत थी? नहीं शेख़ साड़ी तन ढंकने के लिए नहीं, जिस्म का हुस्न उभारने के लिए होती है। साड़ी पल्लू को आँचल करके सिर ढंकते हैं ताकि वह बार बार फिसले और काले बालों की घटा लहरा ये और उसमे खिंची हुई सीधी मांग जैसे बिजली का कौंधा ! पल्लू कंधे पर यूँ डाला जाता है ताकि बार बार ढलक जाये और सामने वाले की नज़रे गले से गुज़रती, छाती के उभार से होती, कमर के ख़म पर रूकती, नितम्बो की गोलाइयों पर से फिसलती धड़ाम से ज़मीन पर आ गिरे।”

कुछ समझकर कुछ न समझकर शेख हंसा "तुम तो तांती काम और शायर ज़्यादा मालूम होते हो। इसीलिए औरतों के पहनने की चीज़ बनाते हो , आशिकमिजाज जो ठहरे। "
"जी हाँ सुनते हैं पहले यूनान और रोम के मर्द भी साड़ी जैसा लिबास पहनते थे; लेकिन मर्दों का सीधा सपाट, लठ जैसा शरीर साडी की ताब क्या लाता ? मर्दों से साडी कबकी छूट गई, औरतें आजतक पेहेन रही हैं। "
"खैर वह सब मैं नहीं जानता , हाँ तुम्हारी साड़ी बेजोड़ है। मेरी बीवी इसका अबाया पहनकर बहुत खुश होगी। "
"मैं अपनी साड़ी आपको नहीं बेचूंगा! "
अकरम के छोटे से घर का आँगन खचाखच भरा हुआ था। बशीरहाट में कभी मर्सिडीज़ बेन्ज़ देखी नहीं गई थी। अंदर हो रही बातचीत को सब दम साधे सुन रहे थे। जैसे ही अकरम अली ने साड़ी न बेचने का ऐलान किया बाहर जमा भीड़ जैसे अचानक फट पड़ी; जितने मुह उतनी बात। एक पल को तो शेख़ भी हक्का बक्का रह गया फिर संभलते हुए बोला "क्या कीमत हमने काम लगाई है?"
अकरम कुछ पल चुप रहा फिर साड़ी पर हाथ फेर और उसे बहुत संभाल कर मलमल में लपेटते हुए बोला "यह साड़ी मेरी रूह है शेख साहब और रूह को काट फाड़ कर, टुकड़े टुकड़े नहीं किया जाता, सुइयाँ चुभाकर छलनी नहीं करते आत्मा को मोहतरम!"
"क्या कह रहे हो अब्बा ?" अकरम का दूसरा बेटा करीमुद्दीन बोला। "इतना पैसा तो हमने कभी देखा भी नहीं है!"

"चुप रह कूढ़ कहीं के. कितना तुझे अपना हुनर सिखाने की कोशिश की पर रहा तू जानवर का जानवर ही। तांत और रेशम आंकना तो दूर की बात तुझसे तो करघे पर बैठा भी नहीं जाता। आधे घंटे में ही कहता है 'हाय हाय मेरी कमर दुःख रही है ‘ अरे कमर तोड़े और आँखे फोड़े बिना कहीं बालूचरी बनती है ? "
"लेकिन बनाई तो बेचने के लिए है न?" शेख के सेक्रेटरी ने पूछा।
"आजतक जितनी साड़ियां बनाई सब बेचीं; यह नहीं बेचूंगा। यह साड़ी मैंने माँ दुर्गा के लिए बनाई है।”
"यह कौन हैं ?" शेख ने शायद माँ दुर्गा को कोई दूसरा, ज़्यादा मालदार गाहक समझा।
"अब्बा, देवी को पहनाई गई साड़ी भी तो बर्बाद ही होती है न। ठाकुर के साथ ही विसर्जन हो जाता है साड़ी का। "
ज़ोर की तड़ाक की आवाज़ आई और शमसुद्दीन गिरते गिरते बचा "खबरदार जो काफिरों जैसी बाते मुंह से निकाली। बेटी को सजा संवार कर ही तो ससुराल भेझा जाता है। मेरी बनाई हुई साड़ी पहनकर, दस दिन से बिझुड़े शिव को दुर्गा रिझाती है। तभी तो तप भांग होता है महातपस्वी का, सब मेरी बनाई हुई साड़ी के कारण ही तो। "
"इतनी साड़ियां एक साथ पहनती है देवी दुर्गा?' शरीफउद्दीन ने गाल सहलाते हुए पूछा।
"कितनी पहनती है, कैसे पहनती है, क्यों पहनती है यह तो देवी ही जाने। मैं बस इतना जानता हूँ की मेरी बनाई साड़ी बहुत पसंद करती है माँ, इसीलिए तो हर साल से बेहतर साड़ी बन जाती है, देवी माँ की दया से। "
शेख उठ खड़ा हुआ. ग़ुस्से से उसका चेहरा तमतमाया हुआ था। "तुम मुसलमान होकर भी देवी देवता को मानते हो-----ताज्जुब है!"
अकरम अली के चेहरे पर न घुसा था, न नफरत , न नाराज़गी न हिकारत. एक मासूम सी ख़ुशी उसके चेहरे पर खेल रही थी, जैसी कोई बच्चा, अपने घर के रोशनदान में दिए चिड़िया के अण्डों में से बच्चे निकलते, बड़े होते और अंत में पहली उड़ान भरते देख रहा हो। मलमल में लिपटी बालूचरी साड़ी को अपने सीने से लगाते हुए वो पूरे ऐतमाद से बोला "आप इंसान होकर भी कला और फ़न का मर्म नहीं समझते ---ताज्जुब है!"
--------------------
यह कहानी मूलरूप से पत्रिका कथादेश में प्रकाशित हुई है। प्रस्तुत कॉपी फेसबुक से ली गई है। नूर जहीर ख्यातिलब्ध साहित्यकार व रंगकर्मी हैं। 

Wednesday, April 19, 2017

A Tune to Delight

Almost a decade and a half ago, one night, a folk song was being telecast on the National Channel of India and it stuck in my mind and on my tongue. Its theme was,”You didn’t have lemon, nor did you have tamarind, what fruit did you eat that your child is so beautiful?"  To keep this song going, one can add the names of all the different fruits that the mother may have eaten. This song is actually a conversation between the mother of a new born and her sister-in- law about the new born child. The fugitive meaning of this song, which isn’t that difficult to decipher, is that the mother didn’t have anything that would make a child beautiful, yet gave birth to this beautiful child, and how? After listening to this song, I would sing it to my Aunty, exactly at a time, when she was among her colony friends and chatting of this and that. When she heard me singing this song, she would take off her slippers and throw them at me, shying away from her friends and saying, as if in explanation, “This kid is very naughty”. Actually it is a folk song and people sing it after the child is born.

Featured photo
One day, we were all set to start a street play in a village near Ayodhya. The entire village had gathered. It was evening and darkness was dawning upon us, ready to ruin our set up as there was no available electricity connection and we had to arrange lights and everything. We were trying to get electricity from a streetlight pole anyhow, so we could start the show. It was my responsibility to hold the attention of the crowd till we got the electricity and started the play. And then I saw a lady holding her new born tightly to her chest. I don’t know what came in to my mind at that moment that made me pick up my mouth organ and begin singing that song. I kept adding every fruit that came into my mind at that time.  After two or three lines, the entire crowd began singing after me. I was looking at the lady whose cheeks turned pink every time a new line and a new fruit were added.  When the song ended, I saw tears in her eyes, may be because of the joy of becoming the mother of such a beautiful child, maybe I gave her some happiness. When people were dangling me on their shoulders, I was wondering if there’s any pleasure, any joy, better than this.
-------------
Translated by Rahul, Edited by Sweta, Final proof by Scharda

A Tongue for all Terrains

My last biking trip was around 1500 kms long. Alone, being my own sole companion. I went biking from  Ayodhya to Sarnatha  to Baksar-Ara and Patna. And then from Patna to Gaya to Nalanda and Rajgir. My last destination was Bodhgaya, where I went to see the temple of Lord Buddha. Before my journey began, I decided not to speak in Hindi anywhere. I used Awadhi- my mother tongue, to converse. When I shared this experience with my friends, who do not belong to my state, Uttar Pradesh or the one where my trip unfolded- Bihar, they simply wondered. But I found that while I traveled from mountains to the plains of UP-Bihar and also in Madhya Pradesh, that people easily understand Awadhi. At all the places I travelled on my bike last time, no one asked, “What did you say?”.

One of my friends told me that it might be the effect of the Ramcharitmanas (a famous Indian epic), but I don’t think that's true because the language used by Tulsi Das (the man who wrote it) is not pure Awadhi. Or, from a different perspective, we can conclude  that his language has never really been used in the Awadh region by anyone. It is all mixed with Sanskrit. When we talk about epics written in Awadhi, only Malik Mohammad Jayasi used pure and authentic Awadhi. Sometimes I wonder  what must have been in the mind of Mr. Jayasi that he wrote an epic on the Queen of Chittor (now in Rajasthan, the desert part of India),  sitting in Amethi, which belongs to the Indian Northern Plains, far away from Chittor. Surprisingly, not many people know that Awadhi is often used in Pakistan.  And people in Surinam, Holland, Mauritius understand it too! One of my Surinami friends told me that they speak a mix of five north Indian languages and Awadhi is one of them. He doesn’t know the pure Awadhi poet Mr. Jayasi, but he said that Ramcharitmanas of Tulsi is one of the most read books in his country. He thinks that Hindi- the national language of India, is an encroachment. He says that he uses a  mix of five languages and sometimes puts in some Dutch and Creole words for local needs. Putting Hindi words will get quite confusing for people because then that’ll become a whole new language. He was sad about the fact that people in his place have started using Hindi words in his 150 year old language -Surinami Hindustani. After all these experiences, I wonder if I should be sad for my language- Awadhi.
------------------
Translated by Rahul, Edited by Sweta, Final proof by Scharda