Sunday, March 18, 2007

नंदीग्राम नही , हमे तो पैसे से मतलब है ..

मैं ख़ुद ..


हमे नही पता कि नंदीग्राम मे कितने लोग मारे गये . फ़िलहाल जो भी मारे गये , कम से कम वो वापस लौट कर नही आने वाले . हमे ये भी बहस नही करनी कि सरकार ने क्या किया या फिर लाल क्रांति का सपना लेकर सत्ता सुख भोगने वालों ने वहाँ क्या किया . हमे ये भी बहस नही करनी कि क्या यही लाल की लाली है जो अब पूरी तरह से काली है . लेकिन हौले हौले जो हम पता लगा रहे हैं और जो भी माध्यम हमारे सामने हैं उन माध्यमों पर हम कैसे भरोसा करें ? अगर देश कि सरकारी मीडिया कि सुने तो वो कहती है कि सिर्फ़ 6 लोग मारे गये . अब आते हैं निजी मीडिया पर . एन डी टी वी कहता है कि 14 मारे गये और दैनिक जागरण कहता है कि 12 मारे गये , बी बी सी कहता है कि 7 मारे गये वहीं अमर उजाला कहता है कि 11 मारे गये . टाइम्स कहता है कि 11 मारे गये वही हिंदुस्तान टाइम्स कहता है कि 11 मारे गये . सबके पास मरने वालो कि अलग अलग संख्या और सूची है . सब बेच रहे हैं मरने वालों को क्योंकि ... क्योंकि क्या ? अरे भाई लाल निढाल हो रहा है इसलिए . और ये कथित लाल अब पूरी तरह से केसरिया से मिल ही नही गया है बल्कि उसके रंग मे रंग गया है . लेकिन मुझे इससे क्या ? लाल जाए तो जाए चूल्हे भाड़ मे . अपन तो बस ऐसे ही मरने वालों कि संख्या देखते रहेंगे और ब्लॉग पर पोस्टिंग करते रहेंगे . हमारे आदमी मरते हैं तो अपनी बला से . हमे इससे क्या लेना देना ? हमारी तो न्यूज़ बन रही है ना और जितना हमे कहा जाता है , हम उतना ही तो बताएँगे . सभी सेटिंग है ना ..

Post a Comment