Saturday, March 9, 2013

हल्‍ला बोल मोहल्‍ला बोल


हल्‍ला बोल मोहल्‍ला बोल


हल्‍ला बोल मोहल्‍ला बोल

चुप है क्‍यूं तू लल्‍ला बोल
खोल जुबां का तल्‍ला खोल
हल्‍ला बोल भई हल्‍ला बोल

रोटी सूखी तेल बीमार

लगने से पहले बि‍का बजार
नींद में है सारी सरकार
पूछो तो बोलें अल्‍ला बोल
अब खोल जुबां का तल्‍ला खोल
हल्‍ला बोल भई हल्‍ला बोल।

बरसी धूप फसल बेकार

आया पानी बह गया ज्‍वार
सोती ससुरी ये सरकार
मांगो तो बोलें लल्‍ला बोल
खोल जुबां का तल्‍ला खोल
हल्‍ला बोल भई हल्‍ला बोल।

Post a Comment